जब बाहमण खेत पे आया

एक बार एक मारवाडी के खेत में Tubewell
खोदणी थी तो उसने सोचा क्यू ना किसी बाहमण
से सही जगह का चयन कराया जाये और बाहम ण
की परीक्षा भी हो जायेगी ।
जब बाहमण खेत पे आया तो उसने पूरे
खेता का मुआयना किया और फिर किसी जगह पर खडा होकर बोला कि मारवाड़ी साहब
यहाँ पानी बढिया है आप यहाँ मोटर लगा सकते है ।
मारवाड़ी खुश हुआ और बाहमण को दोपहर के खाने
का न्यौता भी दे दिया । जब बाहमण खाने पर
आया तो मारवाडी ने बीवी से
कहाँ खाना अच्छी तरह से लगाना और एक कटोरी में घी नीचे और सुखा चुरमा ऊपर डालना । जब
खाना सामने आया तो पण्डत जी बोले यजमान इस
चुरमे में तो घी है ही नही । बस ये सुनते ही मारवाड़ी ने
जूती उठायी और खींच दी बाहमण को और
बोला साले तुझे दो इंच नीचे का घी नजर
नही आया और खेत पर 60 फुट नीचे का पानी देख लिया था तूने ।
आखिर मारवाड़ी तो मारवाड़ी होता है