ग़ज़ल, शबनम की बूँदों से गुलाब की पंखुडियों पर महबूब का कसीदा लिखने का नाम है